शूरवीर Shoorveer Song Lyrics - Rapperiya Baalam

Shoorveer Rajasthani Song Lyrics In Hindi. This Song Sung by Rapperiya Baalam Music given by Rapperiya Baalam Lyrics by Rajneesh Jaipuri. Shoorveer - A tribute to महाराण प्रताप जी Song Lyrics.


SHOORVEER SONG LYRICS IN HINDI

ले हाथ खडग कंधे भाला
सीने में धधकती ले ज्वाला
चेतक संग चल कूच पड़ा
बण सूरवीर वोह टूट पड़ा

ओ माटी मेवाडा री
सुण मावड राणा री
मस्तक तेरा टीका शान मेरी
नही जावण दुँगा आन तेरी

तुझको ये जुबान मेरी
तुझपे वारूँगा जान मेरी
बलि तुझपे प्राणा री
ओ माटी मेवाडा री

रण भूमी जब निकल पडुँ 
सीने में धधकती अंगार रहे
बण काल दुश्मनो पर गिरूँ
मुख से निकलती ललकार रहे
कटे शीशो का अंबार करूँ
जब तक हाथों में तलवार रहे
रण विजय का वरण करूँ
एकलिंग जी कि जय जयकार रहे
लहु में मेरे ज्वाला ताप करें
मन शत्रुओ का भयंकर कांप करें
कण कण से आती ये आवाज रहे
मेरी मात भूम हमेशा आजाद रहे

म्हारी जामण तुम्हारी मावड तु
स्वाभिमान तेरो ना खोवण दु
कटे शीश पड़े पर ये पाग नही
प्राधीन कदे ना होवण दुँ

ओ माटी मेवाडा री
सुण मावड राणा री
मस्तक तेरा टीका शान मेरी
नही जावण दुँगा आन तेरी

तुझको ये जुबान मेरी
तुझपे वारूँगा जान मेरी
बलि तुझपे प्राणा री
ओ माटी मेवाडा री

प्राधीन किसी के ना हो
कायम तेरा यें स्वाभिमान रहे
प्रण लिया लाज बचाने का
व्यर्थ ना मेरा कभी ये बलिदान रहे
फले फुले कोना कोना तेरा
हरे भरे तेरे खेत खलिहान रहे
ओ माटी तु सबकी मात धरा
तेरा देश ये भारत महान रहे
जब तक सुरज प्रकाश रहे
रंग केशरिया आबाद रहे
ओ माँ मेरे जाने के बाद भी
लोगों के दिलो में तेरा
बेटा महाराणा प्रताप रहे

लडकर रण मीटी हो जाऊँ
मरकर कण मीटी हो जाऊँ
स्वीकार नही मेरी मातभुमी
कोई आकर तुझ पर वार करें

ओ माटी मेवाडा री
सुण मावड राणा री
मस्तक तेरा टीका शान मेरी
नही जावण दुँगा आन तेरी

तुझको ये जुबान मेरी
तुझपे वारूँगा जान मेरी
बलि तुझपे प्राणा री
ओ माटी मेवाडा री

जैसे एक चिंगारी लगा देती है
पूरे जंगल में आग ऐसे थे
वीटो के वीर महाराण प्रताप
नही भुलेगें रणभूमि में लहु बहाया
प्यारी थी इतनी आजादी
रह जंगल में जीवन बिताया
रणक्षेत्र में पलट कर बाजी
हर दुश्मन को मार भगाया
दे राणा ने प्राणो की आहुति
इस माटी का कर्ज चुकाया
उन्ही की सौगात हमें मिली थी आजादी
अब हमें यें फर्ज निभाना है
भारत देश अमानत है उनकी
उनकी सोच को आगे बढाना है
मेरे देश के जवानो को
महाराणा प्रताप बन जाना है
और अपने वतन को उसके
दुश्मनो से हर पल बचाना है

ओ माटी मेवाडा री
सुण मावड राणा री
मस्तक तेरा टीका शान मेरी
नही जावण दुँगा आन तेरी

ओ माटी मेवाडा री
सुण मावड राणा री
मस्तक तेरा टीका शान मेरी
नही जावण दुँगा आन तेरी

तुझको ये जुबान मेरी
तुझपे वारूँगा जान मेरी
बलि तुझपे प्राणा री
ओ माटी मेवाडा री





Post a Comment

0 Comments